Pages

Monday, February 4, 2013

मोह्बत की किताबो से




यादो  के एक सफ़र से  आईये  आज आपकी   मुलाक़ात करते है ---------
       
         तुम्हारे पास हु लेकिन, मै तुमसे दूर रहता हु 
          तुम्हारे बिन जीवन, अघुरी है समझता  हु ।
          मै तुमको भूल पाउँगा ये अब मुमकिन नहीं लेकिन ,
          तू हमको याद आजाओ ,यही मेरी जरूरत है ।।

                                                       हमारे मन समंदर में, तुम्हारा वास होता है 
                                                       सफ़र में चल चुके राही,  के मन में आस  होता है 
                                                       मोह्बत की किताबो में लिखी हर बात है लेकिन 
                                                       बिना धूबे मोहबत में मोहबत हो नहीं सकती ।।

            ये  दिल ऐसा दीवाना है, जो अक्सर दूर रहता है 
            मोहबत की दीवारों में, ये अक्सर कैद रहता है 
            अगर दिल  में जगे अरमा को करना केस ये लेकिन 
            मोहबत में कभी ऐसा अता कानून   ना  होता ।।

                                                           मेरी यादे मेरी सांसे, तुम्हारे नाम होती है 
                                                           मेरा दिल भी यही कहता, तुमारी याद आती है 
                                                           मेरी इतनी तमन्ना है अब  मिल जाय तू  मुझको 
                                                           मिलाया कभी रब ने कन्हईया ओर राधा को ।।
  
            कभी दिल से लगाती है, कभी वो रूठ जाती है 
             मगर जब प्यार की वो बात, तो अक्सर सताती है 
            ये दुनिया कुछ कहे लेकिन मेरी एक बात सुन यारा 
             तुझे मेरे लिए रब ने जमी पे भेज रखा है ।।

Thursday, August 25, 2011

अन्ना और हम




जन लोकपाल को संसद में , अब अंतिम रूप दिलाना है
जन -जन के आवाजो को अन्ना के साथ लगाना है |
अन्ना के राहो पर चल कर भ्स्त्राचार  मिटाना है
भ्रष्ट हुए सरकार तंत्र को ,   नैत्तिक  पाठ पढ़ना है || 


राजा कलमानी को जज से मृतुदंड दिलवाना है
मारण कनिमोघी को अब , कालेपानी भिजवाना है |
काले धन को जग से लाकर भारत हमें  बचाना  है
हसन अली जैसे लोगो को फासी हमें दिलाना है ||

 

Tuesday, May 17, 2011

यादो का सैलाब

१५-५-२०११ की ओ रात , एक दुसरे को फिर से मिलने का आश्वासन  देते सिनिअर्स जो अकेसन था उनके फेरेवेल का   | एक दुसरे से हाथ मिलाना व गले लगना तो शायद आदत सी बन गयी थी | उनकी आँखों  में आंसू और एक दुसरे  से जुदा होने का गम शायद यही बता रहा था कि  -
               हम भूल न पाएंगे तुमको
               हम याद भी आएंगे तुमको |
               यादो कि फुलवारी ले  
              आयेंगे मिलने फिर कल को || 
शुरू में तो सब सामान्य था इसी बीच खुदा को भी ये रुसवाई पसंद नहीं आयी , तो उसने हवा के छोटी सुनामी को भेज दिया | कुर्सियों ने गिर करउनका अभिनन्दन  किया -
            खुदा ने खुद को रोक न पाया
             आँखों   में आंसू बहर आया |
            कुर्सियों ने यु गिर करके
            हमको ये अनुभव करवाया ||
समय का चक्र चलता गया | ९ ,१० अऔर अब तो १०.३० भी हो गया |अब उनको अलग होने का समय आ गया था |ओं लोग बहुत उदास थे , उनके चेहरे उतर चुके थे -
            हम हुए अकेले बिन तेरे
            जीवन कि लम्बी रहो में
            बस यादे रह गयी है उनकी
             प्यार भरे इस  महफ़िल में
                           हे दूर देश के बनवासी 
                           हे सुदूर के पाखीगन
                            मै ये सोच नहीं पाया 
                        ऐसी होगी अपनी बिछुणन
  है बिछुड़ रहे नभ में पतंग 
 है घाट छोड़ नौका के संग 
तुम भूल न जाना हम सब को 
है राह छोड़ जैसे बिहंग    

Friday, March 11, 2011

होली बसंत में आती है |

होली  बसंत  में  आती है
खुशिया गुलाल बन जाती है ,
हम सब को प्रेम की गंगा में
रंग करके वो चली जाती है,
होली  बसंत  में  आती है |

बिछुरे लोगो को मिलवाकर
खुशिओ का लुप्त उठाती है ,
सबको रंगों में रंग कर के
भाईचारा सिखलाता है ,
होली  बसंत  में  आती है |

है दूर रह रहे लोगो को                   
मिलने की राह  दिखाता है ,
अपने रस मंडल के द्वारा
उनको रसपान  कराती है,
होली  बसंत  में  आती है |

 इश भक्त प्रहलाद की बाते
हमको याद दिलाती है ,
धर्मनिस्ट कर्तब्यानिस्ट
बनने का पाथ पढाती है,  
होली  बसंत  में  आती है|



 

Sunday, March 6, 2011

अपनी भारत भूमि को हम , फिर से स्वर्ग बनायेगे

 हम सब  आज  ये प्रण लेते है , भ्रस्टाचार मिटायेंगे
 आने वाली हर बाधा को , हसते - हसते सह जायेंगे , 
 अपने सत्कर्मो के द्वारा  , लोगो को सिखलाएंगे
 उनके अंदर   देशप्रेम की , गंगा हमी बहायेंगे  ,

अपनी भारत भूमि को हम , फिर से स्वर्ग बनायेगे  ||


गाँधी और जवाहर जैसे  , नेता हमी बनायेंगे 
अपने  भारत  की गुरुता को आगे हमी बढायेंगे  ,
लोगो को निर्भीक बनाकर  , आलस दूर भगायेंगे
उनको अपने सत्कर्मो का , तत्वाबोध कराएँगे ,

अपनी भारत भूमि को हम , फिर से स्वर्ग बनायेगे ||

आओ अब वो समय आ गया , हल्दीघाटी की यादो का
अन्यायों से लाधना होगा मेवारमुकुत     बन रहो का  ,
नदियों की तरह मिलना होगा गहराई में जाना होगा
भारत को स्वर्ग बनाने का , सपना तब ही पूरा होगा  ,
नारी को बनना होगा सीता , पुरुसो  को बनना होगा  राम ,
तभी हम ला पाएंगे जग में , सुख शांति ओर  प्रेम अपार  
राम राज्य के उस सपने को साकार तभी कर पाएंगे ,
आने वाली हर पीढ़ी को लव कुश हमी बनायेगे

अपनी भारत भूमि को हम , फिर से स्वर्ग बनायेगे ||   


Wednesday, June 9, 2010

जल एक जीवन

       पानी- पानी इस दुनिया में ,
       हम सब की यही पुकार |
      बिन पानी क्या होगा यारो ,
       किया कभी तुमने बिचार ||

                                               

                                                 
                                                दो बूंद जिन्दगी की होती ,
                                                खुशियों की अपरम्पार|
                                                दो बूंद ही जीवन में लाती ,
                                                खुशियों की नयी बहार || 

         कीमत पानी का समझाना ,
        लगता नहीं इतना आसान |
         पानी -पानी अनमोल रतन ,
        दुनिया में पानी बहुत महान||
                                                                                              
                                                 पानी को हमने बर्बाद किया ,
                                                पानी को हमने बहा दिया |
                                                पानी को घर की तहरी समझ,
                                                पानी का हमने अपमान किया || 
     करते रक्षा जीवन की हम ,
     पानी की रक्षा क़र ना सके |
    जब पता चला पानी ही नहीं ,
     पानी को ढूढने हम निकले||
                                               पानी की महिमा यूँ पूछो ,
                                               रेगिस्तानो औ बंजारों में |
                 पानी -पानी आमूल्य रतन ,
                  पाओगे हर इंसानों में  
                                                   

                      

                                         


 

Saturday, April 3, 2010

ओ मेरी माँ

                                    
                                   ओ घहर -घहर,  ओ लहर लहर,
                                  दिल में चुभती है रुक -रुक  क़र |
                                     तेरी याद रुलाती रह -रह क़र,
                                   ओ -माँ , ओ - माँ ||  


  तुने ही मुझको जनम दिया,
 तुने ही तो मुझे पाला  पोसा   
तेरा फ़र्ज क्या    भूलेगा  बेटा ,    
 नहीं  माँ - नहीं माँ | |             




                                       तेरी आखों तले  मै पला बडा,
                                       तेरी ममता का तो छाव पढा |
                                    तेरे प्यार को पाकर धन्य हुआ,
                                      ओ - माँ ,ओ-  माँ ||


                         







जब भी कुछ तुम कहतीं थी, 
दिल मेरा दूना होताथा               
माँ तेरी ही गोदी में तो,
सो रात बिताया करता था||


                                      
                                        
                                          
                                         

                                            
                                            तू ही जननी मेरी माता हो,
                                             तू ही मेरे दिल की पुकार
                                          तेरे बिन क्या मै जी पाउँगा,
                                           नहीं माँ नहीं माँ||



तेरी यादो का मै पुलिंदा बाद,
 दिन रात बिताया करता हूँ
 जब भी यादे आती ,
 आखो में आंसु भर लेता हूँ ||


                                             बस याद तुझे ही करता हूँ 
                                              ओ - माँ, ओ- माँ